आप यहां है : Skip Navigation LinksWelcome > फेक्ट होम पेज (हिंदी) > >
 
फेक्ट व्यवसाय आचरण संहिता और नीतिशास्त्र

व्यवसाय आचरण संहिता, व्यवसाय आचरण के मानकों का संक्षिप्त विवरण देता है कि वह संगठन सभी पणबंधधारियों के हितों का संरक्षण सुनिश्चित करने के लिए  कंपनी के निदेशक मंडल के सभी सदस्यों एवं अधिकारियों के क्रियाकलापों का मार्गदर्शन करता है। एफ ए सी टी के सभी निदेशकों एवं अधिकारियों और एफ ए सी टी के कर्मचारी (आचरण, अनुशासन एवं अपील नियम 1977 में सम्मिलित उपबंधों/नियमों के अतिरिक्त नियुक्ति आदेश के शर्तों एवं निबंधनों और भारत सरकार द्वारा समय-समय पर जारी किए गए निदेशों पर यह संहिता लागू होती है।

गलतियों को रोकने और कार्मिक एवं व्यावसायिक संबंधों के बीच के वास्तविक या प्रत्यक्ष हितों के संघर्ष का नीतिपरक निपटान सहित ईमानदार एवं नीतिपरक आचरण को बढावा देने के लिए यह आचरण संहिता जारी/निर्धारित की जाती है। 

1.    नीतिपरक आचरण

कंपनी के निदेशक मंडल के सभी सदस्यों/अधिकारियों को कंपनी की ओर व्यावसायिकता, ईमानदारी और अखंडता और उच्च आचार और नीतिपरक मानकों के साथ व्यवहार करना चाहिए। ऐसा आचरण स्वच्छ एवं पारदर्शक होगा । 

2.    हितों का संघर्ष

कंपनी के कोई भी निदेशक/अधिकारी व्यवसाय संबंध या कार्यकलाप में नहीं लग जाए जो कंपनी के हित या समय-समय पर भारत सरकार द्वारा जारी की गई नीति के विरुद्ध हानिकारक संघर्ष होगा। निदेशक/अधिकारी अपने या कंपनी के हित से अपनी निजी हित संघर्ष की स्थिति में नहीँ रखना चाहिए। यदि हितों पर कोई संघर्ष होते तो कंपनी के हित को चालू करना चाहिए। 

3.    कंपनी कार्यों के संबंध में गोपनीयता

यह एफ ए सी टी की नीति है कि कंपनी के व्यवसाय कार्य  गोपनीय हैं और संगठन के बाहर वालों से चर्चा नहीं की जानी चाहिए, उसे केवल जनता की सूचना के लिए पहले ही उपलब्ध किया जा चुका है। कोई भी निदेशक/अधिकारी ग्राहक से कोई हितलाभ नहीं प्राप्त किया जाना या हितलाभ प्राप्त करने के लिए दूसरों की सहायता नहीं करना और कंपनी की संपत्ति की सूचना जो सार्वजनिक रियासत नहीं हो और जैसे अंतरंगी सूचना बनाती है। कोई भी निदेशक/अधिकारी बैठक में किसी भी अंतरंगी सूचना  का प्रयोग न करें और एफ ए सी टी के शेयरों पर निवेश निर्णयों के संबंध में कोई भी सलाह न दें। 

4.    कंपनी की परिसंपत्तियों का संरक्षण करना

एफ ए सी टी की परिसंपत्तियों का दुरुपयोग नहीं किया जाना लेकिन व्यवसाय के प्रचालन के लिए उन्हें नियोजित किए हैं जिसके लिए वे विधिवत् प्राधिकृत किए जाते हैं। परिसंपत्तियों में  मूर्त और अमूर्त परिसंपत्तियाँ जैसे भूमि और मकान, मशीनरी एवं उपस्कर, प्रणालियाँ, सुविधाएँ, स्वामित्व सूचना, ग्राहकों से संबंध और आपूर्तिकार आदि सम्मिलित है। 

5.    अखंडता

निदेशक/अधिकारी को ईमानदारी और पारदर्शिकता के साथ उचित रूप से कंपनी कार्यों का संचालन करना चाहिए। प्रत्येक व्यक्ति हमेशा कंपनी को दी जाने वाले आंकडे या सूचना की अखंडता को सुनिश्चित किया जाएगा।

6.    उत्कृष्टता 

प्रत्येक व्यक्ति को दैनंदिन कार्यों में उच्च श्रेणी प्राप्त करने के लिए और वस्तुओं की गुणता एवं सभी पणबंधधारियों को पूर्ण संतुष्टिदायक सेवा के लिए निरंतर प्रयत्न करना चाहिए।

7.    एकता

एफ ए सी टी के प्रत्येक व्यक्ति सहयोगियों के साथ एकतापूर्वक काम करे और ग्राहकों, आपूर्तिकारों एवं अन्य पणबंधधारियों के साथ सद्व्यवहार करें और सहिष्णुता, समझौता एवं आपसी सहयोग के आधार पर दृढ संबंध बनाएं।

8.    जिम्मेदारी 

प्रत्येक व्यक्ति को कंपनी से और उसकी पणबंधधारियों और काम करने वाले पर्यावरण से जिम्मेदार रहना चाहिए। 

9.    उत्तरदायित्व

निदेशक मंडल शेयरधारियों से उत्तरदायी है और अन्य अधिकारी निदेशक मंडल से उत्तरदायी है। 

10.   न्यासिता

जैसा कि व्यावसायिक प्रबंधक, निदेशक मंडल और अन्य अधिकारी सचेत है कि उन्हें सभी पणबंधधारियों द्वारा एफ ए सी टी पर विश्वास अर्पित कर दिया गया है। एफ ए सी टी को निरंतर मूल्य, जोडने के द्वारा अपने ऊपर अर्पित न्यासिता को निभाएँगे। 

11.   सरकारी नीति/मार्गदर्शन का अवलंबन

सरकार द्वारा समय-समय पर जारी किए गए विभिन्न नीतियों और मार्गदर्शनों का कार्यान्वयन करना एफ ए सी टी के निदेशकों और अधिकारियों का प्रयत्न रहेगा। 

12.   नवीकरण

प्रत्येक व्यक्ति हमारे प्रक्रम, उत्पाद सेवाएँ और प्रबंधन अभ्यासों को बेहत्तर बनाने केलिए निरंतर नवीकरण एवं प्रयत्न करें।

13.   शेयरधारियाँ

अधिकारों का नियंत्रण एवं संरक्षण करने वाले सभी शेयरधारी मूल्य और सभी कानूनों/नियमों/विनियमों/निदेशों के अनुपालन से और शेयरधारियों के हितों से एफ ए सी टी वचनबद्ध हो जाएगा।

कंपनी के कामों के सभी संगत पहलुओं के संबंध में और अपने कानूनों/विनियमों और करारों के अनुसार ऐसी सूचना निदेशक मंडल शेयरधारियों को सूचित करेंगे। 

14.   निगम अवसर

बोर्ड के सभी सदस्यों/एफ ए सी टी के अधिकारियों को क़ंपनी के संसाधनों के प्रयोग द्वारा अन्वेषित अवसरों के लाभ और रोजगार से संबंधित विवरण  कंपनी को देने का एक कर्तव्य है।  कंपनी की संपत्तियों के प्रयोग से या उनके अधिकार की सूचना एवं स्थितियों द्वारा सभी निदेशक/अधिकारी अपने लिए अवसर लेना निषिद्ध है। 

15.   स्वास्थ्य और सुरक्षा

एफ ए सी टी अपने कर्मचारियों और दूसरों के लिए कार्यस्थल की सुरक्षा एवं स्वास्थ्य का अनुरक्षण करने में वचनबद्ध है। कंपनी कार्यस्थल में सुरक्षा एवं स्वस्थ्य से संबंधित सभी लागू कानूनों एवं विनियमों का अनुपालन करती है। यह प्रतीक्षित किया जाता है कि प्रत्येक व्यक्ति को सब के लिए एक क्रियात्मक कार्य करने के लिए पर्यावरण का बढावा देना चाहिए। व्यवसाय से संबंधित  किसी भी असुरक्षित या जोखिम स्थितियों या सामग्रियों, चोटों और दुर्घटनाओं की रिपोर्ट की जानी चाहिए। सभी प्रकार की धमकियां या शारीरिक प्रबलता का कार्य या डांट-डपट का निषेध किया जाता है। 

16.   कानून का अनुपालन करना

रोजगार पर कानून, स्वास्थ्य, सुरक्षा और पर्यावरण कानून सहित सभी प्रचलित कानूनों का अनुपालन करना एफ ए सी टी की नीति है। एफ ए सी टी के हर एक निदेशक और अधिकारी से ऐसे सभी कानूनों एवं विनियमों का अनुपालन करने की प्रतीक्षा की जाती है। सक्षम प्राधिकारियों की पूर्व निकासी के बिना कंपनी की प्रतिभूतियों का लेनदेन प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप में नहीं किया जाना चाहिए। कंपनी के लिए किसी विधिक कार्रवाई लेने से पहले सभी निदेशकों/अधिकारियों को कंपनी के विधिक विभाग से परामर्श करना चाहिए।

17.   अधिकारों का सृजन न किया जाना

यह संहिता एफ ए सी टी के आचरण कार्य के नियंत्रण करने वाले आधारभूत सिद्धांतों और मुख्य नीतियों एवं कार्रवाहियों का एक विवरण है। किसी भी प्रकार से एक रोजगार संविदा का गठन करना या एक निरंतर रोजगार का आश्वासन या कंपनी के किसी कर्मचारी, निदेशक, ग्राहक एवं अन्य पणधारियों में किसी अधिकार को जताना इससे अभिप्रेत नहीं है और ऐसा नहीं होने देते हैं।

18.   आचरण संहिता का अनुपालन करना

बोर्ड के सभी सदस्य एवं कंपनी के अधिकारी इस नीतिशास्त्र संहिता के उपबंधों का पालन करेंगे और इसका उल्लंघन होने पर कंपनी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक द्वारा उचित अनुशासनिक कार्रवाई की जाएगी। यदि कोई निदेशक या अधिकारी इस आचरण संहिता का उल्लंघन जानते हैं या समझते हैं तो उनको जल्दी ही कंपनी के निदेशक मंडल या अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक को रिपोर्ट करनी चाहिए।

19.   संहिता की व्याख्या

इस आचरण संहिता के अधीन के किसी प्रश्न या व्याख्या का निर्णय कंपनी के निदेशक मंडल द्वारा किया जाएगा और सभी के लिए बोर्ड का निर्णय अंतिम एवं वैध होगा।