आप यहां है : Skip Navigation LinksWelcome > फेक्ट होम पेज (हिंदी) > >
 
एफ ए सी टी द्वारा किसानों को प्रदान की जानेवाली मुख्य सस्यविज्ञान सेवाएँ

गॉव दत्तकग्रहण

गॉव दत्तकग्रहण योजना देश में सबसे पहले एफ ए सी टी द्वारा विकसित एक नया विचार था। एक पूरे गाँव को ग्रहण किया था और कृषि उत्पादकता को सुधारने और गॉव के समस्त सामाजिक-आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए एक योजना प्रारंभ की। परिणाम आश्चर्यजनक बन गया। एफ ए सी टी अभी तक केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक और आन्ध्रप्रदेश में 100 से अधिक गॉवों का दत्तकग्रहण किया है। इस कार्यक्रम के अधीन 10 प्रगामी किसानों (जिन्हें निम्नतम 1 एकड भूमि है) को चयन किया गया है। मृदा नमूनों का विश्लेषण किया जाता है और इसके परिणाम के आधार पर फर्टिलाइज़र सिफारिशें दी जाती है। किसानों को फर्टिलाइज़र मुफ्त में दिया जाता है। आवक्ष अनुप्रयोग के दौरान इस कार्यक्रम के लिए फसल में खाद बिखेरना, फसल लेना आदि के लिए खेती दिनों का आयोजन किया जाता है। वैज्ञानिक कृषि को पोषित तथा संवर्धित करने के लिए सरकार के तीव्र जिला विकास कार्यक्रम से भी एफ ए सी टी ने सक्रिय रूप से सहकारी बनाया था।

उर्वरक उत्सव

उर्वरकों के संवर्धन के लिए एफ ए सी टी द्वारा आख्यापित एक नई योजना थी। यह किसानों के लिए शिक्षा कार्यक्रम मनोरंजन, मनबहलाव और विचारों के विनिमय के अवसर के लिए एक वास्तविक 'माध्यम' था। सभी अंतरग्रथित जानकारी एवं अनुभवों को रुचिकर, सूचनापरक एवं प्रभावी बनाने में यह कार्यक्रम बहुत उपयोगप्रद था।

फील्ड डेमोन्स्ट्रेशन

इस कार्यक्रम के अधीन एक गॉव से एक प्रगामी किसान(जिन्हें निम्नतम 1 एकड भूमि है) को चयन किया जाता है। चयन किए गए किसान अपने 1 एकड भूमि में से 50 सेंट (कंट्रोल प्लॉट) में अपनी ही ढंग से उर्वरक का अनुप्रयोग कर सकता है बाकी 50 सेंट (ट्रीटड प्लॉट) में मृदा विश्लेषण के आधार पर एफ ए सी टी द्वारा प्रदान किए गए मिश्रण संयोग से संप्रयोग किया जाएगा। फसल लेते समय संप्रयोग किए गए प्लॉट एवं कंट्रोल प्लॉट से प्राप्त उपज आंका जाएगा तथा फेक्ट मिक्स की क्षमता एवं श्रेष्ठता के संबंध में किसानों को स्पष्ट किया जाएगा।

फेक्ट कृषि अध्ययन केन्द्र (फेक्ट कृषि विज्ञान केन्द्र)

कृषि विस्तार कार्य में एक नया परीक्षण था। ये केन्द्र खेती की आधुनिक और वैज्ञानिक ढंग पर कृषकों को प्रशिक्षण देने के लिए आवर्ती के आधार पर गॉवों में चलाया। 6 महीने की अवधि के लिए संबंधित क्षेत्र में विशेषज्ञों द्वारा नियमित पाक्षिक कक्षाएँ चलाई जाती थीं। प्रत्येक केन्द्र में पठन सामग्री और अन्य सुविधाओं का प्रावधान किया जाता था। किसानों द्वारा सामान्यत: सारे दक्षिण भारत में ये केन्द्र अच्छी ढंग से स्वीकार किया गया था।

किसान शिक्षा कार्यक्रम

सोइल साम्पिलिंग मेथडोलजी, संतुलित उर्वरक प्रयोग, जीव उर्वरक खाद आदि से संबंधित जानकारी किसानों में पैदा करने के लिए मुख्य रूप से आयोजित किया जाता है।

मृदा परीक्षण सेवाएँ

किसानों को मुफ्त लागत पर मृदा नमूने का विश्लेषण किया जाता है। कंपनी के मृदा परीक्षण प्रयोगशाला माइक्रो न्यूट्रिएंटों के परीक्षण स्तर के लिए भी का उन्नयन कर रहा है। बिक्री अधिकारियों द्वारा संग्रहीत मृदा नमूनों का विश्लेषण किया जाता है और किसानों को रिपोर्ट दी जाती है।

डीलर प्रशिक्षण कार्यक्रम

लाइसेंसिंग, बुक कीपिंग, एम आर पी, फर्टिलाइज़र साम्प्लिंग क्रियाविधियों और संबंधित तथ्यों पर एफ सी ओ नियमावली पर डीलरों को प्रशिक्षण में भाग लेने के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का निर्णय लिया। यह कार्यक्रम कृषि विभग के अधिकारियों और एफ ए सी टी के अधिकारियों और लगभग 100 डीलरों को सम्मिलित करके आयोजित किया था।

मृदा परीक्षण प्रयोगशाला

कृषि मंत्रालय के अधीन नेशना प्रोजेक्ट ऑफ मैनेजुमेंट ऑफ सोइल एण्ड फर्टिलिटी के मार्गदर्श के अनुसार कंपनी एक नई मृदा परीक्षण प्रयोगशाला की स्थापना की जा रही है। इस प्रयोगशाला में एफ ए सी टी को विपणन प्रचालन जहाँ कहीं हो सभी स्थानों से लिए गए 10,000 मृदा नमूनों का विश्लेषण करने की क्षमता रखता है। इस प्रयोगशाला मुख्य न्यूट्रिएंट एन पी के के अलावा माइक्रो एवं सहायक न्यूट्रिएंटों का विश्लेषण करने के लिए सुसज्जित है।

फेक्ट कृषि सेवा केन्द्र

अनिवार्य कृषि निदेशों और सुविधाओं को सलाहकार सेवा के लिए एक छत के नीचे लाने का महत्व समझते हुए एफ ए सी टी ने अपने मुख्य बिक्री केन्द्रों को कृषि सेवा केन्द्रों में परिवर्तित कर दिया। फेक्ट कृषि सेवा केन्द्र केवल अनिवार्य कृषि निदेशों की ही नहीं, बल्कि किसानों को आधुनिक खेती प्रबंधन प्रविधियाँ, उधार की उपलब्धता, विपणन पूर्वेक्षण आदि की सलाह भी दी जाती है। ये सेवा केन्द्र हर एक किसान के लिए विस्तृत खेती योजनाएँ तैयार की जाती है।

फेक्ट मार्केटिंग नेटवर्क

एफ ए सी टी विपणन नेटवर्क केरल, तमिलनाडु, पोंडिचेरी, कर्नाटक एवं आन्ध्रप्रदेश के सभी राज्यों में फैला हुआ है और इन राज्यों में लगभग 100 फील्ड स्टॉरेज प्वाइंट्स और 7000 फुटकर बिक्री केन्द्र है। फेक्ट उर्वरक दक्षिण राज्यों के कॉ-ऑपरेटीव मार्केटिंग फेडरेशन और आग्रो इंडस्ट्रीस कोर्पोरेशन के फुटकर नेटवर्क द्वारा भी उपलब्ध है।

फेक्ट मिक्सिंग सेंटर

उत्पादन के अन्य सामान्य श्रेणी के अलावा एफ ए सी टी कृषकों के प्रयोजन के लिए केरल की मिट्टी एवं फसल के लिए निर्धारित विभिन्न प्रकार के 4 एन पी के मिश्रण उत्पादन केन्द्र भी चलाता है। जीव उर्वरक भी एफ ए सी टी द्वारा निर्माण किया जाता है।

मोबाइल आधार पर उर्वरक प्रबंधन प्रणाली (एम एफ एम एस)

उर्वरकों की सहायिकी के सीधे अंतरण पर भारत सरकार ने एक कार्यदल को संस्थापित किया है। राष्ट्रीय सूचना केन्द्र (एन आई सी) संचारण एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार, इस  परियोजना के कार्यान्वयन में भारत सरकार की सहायता करती है। संक्रमण को योग्य बनाने तथा अपने उद्यम से समग्र लक्ष्य को पूरा करने के लिए मोबाइल फोन का उपयोग करके एम एफ एम एस नाम पर प्रचलित एप्लिकेशन का विकास किया जाएगा।  यह वर्तमान फर्टिलाइज़र मोनिटरिंग सिस्टम (एम एफ एम एस) का एक विकसित रूप है जो कम्प्यूटर  आधारित सिस्टम है।

एम एफ एम एस का उद्देश्य कंपनी से गोदाम, थोक व्यापारियों तथा थोक व्यापारियों से फुटकर व्यापारियों तक उर्वरक के संचालन का अनुवीक्षण करना है। उर्वरक परेषणों के संचालन का अनुवीक्षण तथा विविध गोदामों, थोक व्यापरियों तथा फुटकर व्यापारियों में इसकी स्टॉक स्थिति अनुवीक्षण करने में प्रस्तावित प्रणाली मदद करेगी। यह प्रणाली किसानों के लिए उर्वरकों के समयोचित वितरण सुनिश्चित करने के लिए सरकारी निकायों को एक उपकरण के रूप में भी कार्य करेगी।

प्रारंभ में, यह परिकल्पित किया जाता है कि सार्वजनिक अधिकार क्षेत्र में,  फुटकर व्यापारियों के स्तर में उर्वरकों की उपलब्धता के बारे में अद्यतन सूचना उपलब्ध हो जाएगी।